ऑपरेशन मुस्कान के तहत 11 बच्चे पहुँचे वापस अपने घर…खासकर अपहृत बालिकाओं को बरामद करने में जिले की पुलिस हो रही सफल

उदय सिंह

मस्तूरी – सालो से गुम हुए बच्चो को बरामद करने में बिलासपुर पुलिस ने सक्रियता तेज कर दी है। जहाँ पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल के निर्देश में जिले के गुम बच्चों की बरामदगी पर जोर देते हुए,जिले में ऑपरेशन मुस्कान को सफल बनाने सभी थाना प्रभारी को कहा गया था। जिसके फलस्वरूप उक्त अभियान में बिलासपुर पुलिस के अधिकारियों द्वारा दृढ़तापूर्वक अपनी व्यावसायिक दक्षता का परिचय देते हुए जिले में जुलाई महीने में 11 नाबालिक बच्चों को ढूंढ कर वापस लाया गया है

और इन सभी बच्चों को पुलिस द्वारा उनके अभिभावकों के सुपुर्द किया गया। इस तरह बच्चों एवं उनके माता-पिता के चेहरों पर मुस्कान वापस लौटाने में बिलासपुर पुलिस को महत्वपूर्ण कामयाबी मिली है। इसी कड़ी में मस्तूरी पुलिस ने भी अपनी कार्यकुशलता का परिचय देते हुए महज एक हफ्ते में तीन गुमशुदा अपहृत बालिकाओं को ढूढ निकाला है। बताया जा रहा है कि मस्तूरी थाने में ग्राम पेंड्री से दो बालिका तथा ग्राम भदौरा से एक बालिका के गुम हो जाने की शिकायत दर्ज कराई गई थी।

जिसमे दो मामले 2020 और एक मामला 2019 का बताया जा रहा है। जिनकी खोजबीन के लिए मस्तूरी पुलिस काफी प्रयास कर रही थी। इसी बीच तीनों बालिकाओं के बारे में सूचना मिली कि वह कागजनगर आंध्र प्रदेश, बलौदा बाजार, और जांजगीर चांपा में है। जिस पर मस्तूरी पुलिस ने टीम बना कर मौके पर रवाना हुई। जहाँ से उनके हाथ यह बड़ी सफलता हाथ लगी। पुलिस ने तीन बालिकाओं को बरामद कर उन्हें उनके परिजनों को सुपुर्दे कर दिया है।

उक्त मामले में बालिकाओं को सकुशल घर वापसी को लेकर थाना प्रभारी मस्तूरी फैजुल शाह के नेतृत्व में सहायक उप निरीक्षक प्रदीप यादव,भुरेदास,प्रधान आरक्षक देवमुन पुहुप आरक्षक प्रेमशंकर बंजारे,बसन्त मानिकपुरी, असफाक खान, मुकेश राय तथा कृष्ण कुमार महिलांगे की सराहनीय भूमिका रही।

error: Content is protected !!