सामाजिक संस्थाएं कर रही सहयोग, 8 बॉडी फ्रीजर अस्पताल को किये गए डोनेट…शव रखने परिजनों को होना पड़ता था परेशान

भुवनेश्वर बंजारे

बिलासपुर – जिले में कोरोना संक्रमण के बीच स्वास्थ्य विभाग के मुश्किलें कम करने लगातार सामाजिक संस्थाओं द्वारा योगदान दिया जा रहा है। जिनके द्वारा हालहि में स्वास्थ्य विभाग को 8 फ्रीजर का दान किया जा रहा है। मालूम हो सिम्स और जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए मर्रच्यूरी हैं, लेकिन शाम 5 बजे के बाद यहां पोस्टमार्टम नहीं कराए जाते है। जिसके चलते शव को सुरक्षित रखने के लिए फ्रीजर की आवश्यकता होती है। ऐसे में सिम्स में केवल 6 फ्रीजर है। तो वही जिला अस्पताल में तो नाम मात्र व्यवस्था है। कोरोना संक्रमण के कारण कई संदेहियों के शव को रिपोर्ट के इंतजार में दाहसंस्कार नहीं किया जा रहा। ऐसे में शव रखने के लिए फ्रीजर की आवश्यकता पड़ने लगी। इसकी कमी के चलते जांच रिपोर्ट आए बिना ही मजबूरन कोविड की गाइडलाइन के हिसाब से संदेहियों का भी अंतिम संस्कार किया जाने लगा। कई बार दाहसंस्कार के बाद संदेहियों की रिपोर्ट निगेटिव भी आई। कोरोना संक्रमितों के शव को रखने के कारण अन्य सामान्य बीमारी से मृत हुए, शव को रखने के लिए सिम्स में फ्रीजर की कमी होने लगी थी। साथ ही जिला अस्पताल में इसकी व्यवस्था नहीं होने के कारण वहां से भी संक्रमित का शव सिम्स भेज दिया जाता था। ऐसे में सामाजिक संस्थाओं ने स्वास्थ्य विभाग को 8 फ्रीजर दान किए हैं। इससे समस्या काफी हद तक दूर हो सकेगी।

सीएससी में भी शव रखने की जा रही तैयारी..
स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का कहना है कि

अलग-अलग संस्थाओं से ये फ्रीजर मिले हैं। दो जिला अस्पताल भेज चुके हैं, 4 सिम्स भेजे जाएंगे। इसके अलावा बचे हुए दो फ्रिज ग्रामीण क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भेजने की तैयारी है, ताकि आकस्मिक सीएचसी के आसपास कोई दुर्घटना हो तो शव रखने के लिए परिजनों को समस्या न हो और न ही पोस्टमार्टम के लिए बिलासपुर सिम्स शव लाना पड़े।

error: Content is protected !!